Widget Recent Post No.

header ads

Facebook

header ads

बहिष्कृत भारत ही भारत की मुख्यधारा की मीडिया है : BAHISHKRIT BHARAT

 

मुख्यधारा की मीडिया वही मानी जाएगी जो अधिकतम लोगों के नैतिक और न्यायिक हितार्थ समर्पित हो।असली मिडिया के लिए सत्ता का आश्रय नहीं चाहिए, बल्कि उसे सत्ता के विरुद्ध शोषित बहुजन जनता के हुंकार को बुलंद करने का जरिया बनाना चाहिए। ऐसे ही सदियों से शोषित, पीड़ित, वंचित, पिछड़े, बहुजन जनता की प्रथम मिडिया जिसे बाबा साहब आंबेडकर ने 1927 में स्थापित किया था उस समाचारपत्र "बहिष्कृत भारत" में आपका स्वागत है।

Bahishkrit Bharat
Bahishkrit Bharat
बहिष्कृत भारत का उद्देश्य सिर्फ प्रतिदिन की घटित हो रही खबर ही पहुंचना नहीं है। यह तो एक समाचार पत्र की दैनिक औपचारिकता है जिसे बहिष्कृत भारत के द्वारा भी पूर्ण किया जायेगा।
बहिष्कृत भारत का उद्देश्य सदियों से शोषित, पीड़ित तथा न्याय से वंचित सम्पूर्ण विश्व की बहुजन (सर्वहारा) जनता को तथागत महात्मा गौतम बुद्ध, गुरु नानक, गुरु रविदास, गुरु कबीर, महात्मा फूले, शाहू जी महाराज, बाबा साहब डॉ आंबेडकर, महात्मा गाँधी, सर छोटूराम, संत पेरियार, संत गाडगे, अब्राहम लिंकन, कार्ल मार्क्स, मार्टिन लूथर किंग जूनियर, पेरियार ललई और मान्यवर कांशीराम इत्यादि समय समय पर जन्मे सर्वहारा वर्ग के महापुरुषों के असली आंदोलन और मिशन को पुनः आगे बढ़ाने के लिए आन्दोलनित करना है।

यह अखबार उन लोगों के लिए नहीं है और ना ही उनकी कत्तई जरूरत है जो इससे या बहुजन महापुरुषों के विचारधारा से सहानुभूति मात्र रखते हैं, बल्कि यह उन लोगों के लिए है जो क्रांतिकारी हैं, बहुजन आंदोलन के हिमायती और मददगार हैं तथा कुछ खाश जानने की दिलीख्वाहिश  रखते हैं।

इस अखबार की गतिविधियां ऐसे ही विरले लोगों के आर्थिक नहीं बल्कि बौद्धिक श्रम सहयोग से संचालित है तथा भविष्य में भी जारी रखने की कठोर योजना है। क्योंकि कही भी मानवता के न्याय के लिए उठायी गयी कलम हर जगह के मानवता के प्रति हो रहे अन्याय को कमजोर करने के लिए पर्याप्त होती है।  

                                                                                                                         मुख्य संपादक 

Mainstream media shall be considered to be devoted to the moral and judicial interests of the maximum people. The government should not seek shelter for the real media, but should make it a means to raise the voice of the exploited Bahujan people against the government. Welcome to the newspaper "Bahishkrit Bharat", the first media of the exploited, oppressed, deprived, backward, Bahujan people that was established by Baba Saheb Dr. Ambedkar in 1927.

The objective of BAHISHKRIT BHARAT is not just to reach the daily happening news. This is the daily formality of a newspaper which will be completed by excluded India.

The objective of BAHISHKRIT BHARAT is to bring back the real movement and mission of Tathagata Mahatma Gautam Buddha, Guru Nanak, Guru Ravidas, Guru Kabir, Mahatma Phule, Shahu Ji Maharaj, Baba Saheb Dr. Ambedkar, Mahatma Gandhi, Sir Chhoturam, Sant Periyar, Sant Gadge, Abraham Lincoln, Karl Marx, Martin Luther King Jr., Periyar Lalai and Manyavar Kanshiram etc. the great men of the proletariat born from time to time to the Bahujan (proletariat) people of the entire world who have been exploited, afflicted and denied justice for centuries. To agitate for.

This newspaper is not meant for those who do not strong need it and who sympathize with it or the ideology of Bahujan greats, but it is for those who are revolutionaries, advocates supportive and helpers of the Bahujan movement and want to know something keep it.

The activities of this newspaper are not driven by the economic and intellectual labor of such rare people and there is a rigorous plan to continue in future. Because anywhere a pen taken for the justice of humanity, is enough to weaken the injustice done to humanity everywhere.

                                                                                                                      EDITOR IN CHIEF